केदारनाथ धाम के कपाट बंद, शीतकालीन प्रवास के लिए ऊखीमठ रवाना हुई पंचमुखी चल उत्सव विग्रह डोली

0
899

रुद्रप्रयाग, 15 नवम्बर (time24) द्वादश ज्योर्तिलिंगों में शामिल भगवान केदारनाथ के कपाट सोमवार यानी आज भैयादूज पर्व पर वैदिक मंत्रोच्चार एवं पौराणिक विधि विधान से शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाएंगे, जिसको लेकर उत्तराखंड देवास्थानम बोर्ड ने तैयारियां पूरी कर ली हैं। प्रतिवर्ष विश्व प्रसिद्ध धाम केदारनाथ के कपाट खुलने का समय महाशिव रात्रि पर्व पर तय होती है और मंदिर के कपाट बंद होने की तिथि पौराणिक परम्परा अनुसार भैयादूज पर्व पर निर्धारित है। इस वर्ष भी सोमवार यानी आज भैयादूज पर्व पर केदारनाथ धाम के कपाट शीतकाल के लिए पौराणिक रीति रिवाजों के साथ बंद कर दिए जाएंगे। रविवार को भगवान पंचमुखी उत्सव डोली को मुख्य पुजारी के आवास से मंदिर परिसर लाया गया और इसे भव्य तरीके से सजाया गया। कपाट बंद होने के बाद पंचमुखी डोली के साथ हजारों की संख्या में भक्त केदारपुरी से शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर के लिए आगमन करेंगे और भगवान केदारनाथ के दर्शन शीतकाल में ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में होंगे। उल्लेखनीय है कि कपाट बंद होने से पूर्व मुख्य पुजारी शिवशंकर लिंग द्वारा मंदिर के गर्भगृह में सुबह तीन बजे से विशेष पूजा अर्चना शुरू की जाएगी। भागवान को भोग लगाने के उपरान्त भक्तों को दर्शन करेंगे। उसके बाद भगवान को समाधि पूजा के बाद गभगृह के कपाट बंद कर दिए जाएंगे। अंत में मंदिर के मुख्य कपाट सुबह 8 बजकर 30 मिनट पर बंद कर दिए जाएंगे। कपाट बन्द होने के बाद भगवान केदारनाथ की पंच मुखी चल विग्रह उत्सव डोली हिमालय से रवाना होकर लिनचोली, जंगलचटटी, गौरीकुण्ड, सोनप्रयाग, सीतापुर यात्रा पड़ावों पर श्रद्धालुओं को आशीष देते हुए प्रथम रात्रि प्रवास के लिए रामपुर पहुंचेगी। 17 नवम्बर को भगवान केदारनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली रामपुर से रवाना होकर शेरसी, बडासू, मैखण्डा, नारायणकोटी, नाला यात्रा पड़ावों पर श्रद्धालुओं को आशीष देते हुए अंतिम रात्रि प्रवास के लिए विश्वनाथ मन्दिर गुप्तकाशी पहुंचेगी। 18 नवम्बर को भगवान केदारनाथ की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी से रवाना होकर भैसारी, विद्यापीठ, संसारी होते हुए दोपहर को अपने शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में विराजमान होगी और 19 नवंबर से भगवान केदारनाथ की शीतकालीन पूजा ओंकारेश्वर मन्दिर में विधिवत शुरू होगी। जिले की कमान संभालने के बाद नवनियुक्त जिलाधिकारी मनुज गोयल ने बाबा केदार का आशीर्वाद लिया। कपाट बंद की तैयारियों को लेकर नवनियुक्त जिलाधिकारी मनुज गोयल केदारनाथ धाम पहुंचे। उन्होंने सबसे पहले बाबा केदार का आशीर्वाद लिया और सुख समृद्धि की कामना की। इस दौरान मंदिर मुख्य पुजारी शिव शंकर लिंग, केदारनाथ तीर्थ पुरोहित समाज के विनोद शुक्ला, अंकुर शुक्ला, रमाकांत शर्मा, हिमांशु तिवारी, गौरव तिवारी, राजकुमार तिवारी सहित देवस्थानम् बोर्ड के बीडी सिंह ने नवनियुक्त जिलाधिकारी का स्वागत किया।